Wednesday, 08 December 2021, 4:06 AM

लेख

अब गाॅवों हो प्रोजेक्टिव सरपंच चाहिये, रबर बैंड नहीं

Updated on 6 December, 2021, 8:09
गांव की महिलाओं को आर्थिक रूप से पुरुषों की कमाई पर निर्भर रहना पड़ता है। क्योंकि ज्यादातर गांवों में खेती ही आमदनी का जरिया होता है और बहुत कम महिलाएं ही मजदूरी के लिए घर से निकल पाती हैं। शहर जाकर काम करना उनके लिए मुश्किल टास्क है। ऐसे में... आगे पढ़े

देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार दूसरे दिन वृद्धि, 16 हजार नए केस, 666 मौतें

Updated on 23 October, 2021, 22:22
देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार दूसरे दिन वृद्धि दर्ज की गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से शनिवार सुबह अपडेट किए गए आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे के दौरान 16,326 नए मामले मिले हैं, 666 मौतें हुई हैं। इसमें केरल में पिछले एक दिन में हुईं... आगे पढ़े

PM kisan Samman Nidhi , किसानों को PM मोदी का दिवाली गिफ्ट

Updated on 23 October, 2021, 22:14
केद्र सरकार जल्द ही किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी का ऐलान कर सकती है। दिवाली से पहले मोदी सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की राशि को दोगुना करने का ऐलान कर सकती है। किसानों को अब किसान सम्मान निधि के तहत सालाना 6000 रुपए के स्थान पर 12000 रुपए... आगे पढ़े

बेसक कृषि बिल कॉरपोरेट है, हम कॉरपोरेट नहीं बने# गांववाला

Updated on 20 October, 2021, 7:27
 योगेन्द्र पटेल किसान उत्पाद का दाम सरकार हो या कोई, क्यों तय करें? क्या किसान को अब तक इस लायक भी नहीं बनाया गया की वह अपनी बस्तु मूल्य निर्धारण की पैरवी करता हो, कृषि कानून इस बाधा को तोड़ता हुआ दिखता है  लेकिन  सबसे बड़ी बाधा इस कृषि कानून को भारत... आगे पढ़े

कृषि कानून - क्या कृषक उपज व्यापार होगा किसानों के हवाले ?

Updated on 17 October, 2021, 22:53
              किसान बिल 2021 पर जमीनी सुधार की जगह राजनीति जंग जारी है। इस बीच उस पाईंट को कोई नहीं समझ पा रहा है जो इस बिल के लागू कराने में सबसे बड़ा झोल है।   बेसक, कृषि काननू का उद्देश्य किसानों को व्यापारी बनाने की पैरवी... आगे पढ़े

देश में हर साल 40 फीसदी खाना होता है खराब, 20 करोड़ रोज सोते हैं भूखे

Updated on 16 October, 2021, 10:10
भारत वैश्विक भुखमरी सूचकांक के 116 देशों की सूची में 91वें स्थान से फिसलकर 101वें पायदान पर पहुंच गया है। आज विश्व खाद्य दिवस है। संयुक्त राष्ट्र की संस्था फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गनाइजेशन (एफएओ) की रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर में 69 करोड़ से अधिक लोग हर दिन भूखे पेट सोते... आगे पढ़े

शहर से गांव आकर इन दो बहनों ने बदली किसानों की ज़िंदगी

Updated on 16 October, 2021, 10:07
रोज़गार और बेहतर ज़िंदगी के अभाव में आज बड़ी संख्या में लोग गांवों से शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं, हालांकि उत्तराखंड की दो बहनों ने इसके ठीक उलट कुछ ऐसा किया है जिससे एक ओर जहां उनके गाँव के किसानों की जिंदगी बेहतर हो रही है वहीं दूसरी... आगे पढ़े

सामुदायिक खेती ही है रोजगार का स्थायी समाधान पर यह बात समझाने सालो लग जाते हैं

Updated on 12 October, 2021, 0:08
हैदराबाद के एक व्यवसायी सुनीथ रेड्डी, शहर की भीड़-भाड़ से कहीं दूर एक सीधी-सादी जिंदगी जीना चाहते थे। शहरी जीवन उन्हें रास नहीं आ रहा था। प्रकृति के नजदीक रहकर, वह उसे महसूस करना चाहते थे। सुनीथ ने  MEDIA को बताया, “बहुत सारे लोगों की तरह मैं भी अपने शहरी... आगे पढ़े

इनका स्टार्टअप ऐसा कि रतन टाटा ने भी कर दिया इस प्रोजेक्ट में निवेश

Updated on 6 October, 2021, 6:39
आज लोगों की दैनिक समस्याओं के समाधान का उद्देश्य लेकर देश में रोजाना नए स्टार्टअप की शुरुआत हो रही है। कुछ स्टार्टअप आज वैश्विक स्तर पर नाम कमा रहे हैं तो कुछ स्टार्टअप को अपने शुरू होने के महज कुछ ही महीनों बंद होना पड़ जाता है। इन सब के... आगे पढ़े

 दम तोड़ रहे जमीनी एनजीओ के लिए संजीवनी बनेगी जन अभियान परिषद ?

Updated on 5 October, 2021, 22:15
                        क्या?  आप जानते हैं भारत में कितने एनजीओ है। एनजीओ के आकड़ों को जानकर आप हैरान हो जायेंगे। भारत में एनजीओ की संख्या 40 लाख से भी अधिक  है।  जी हां सरकारी अस्पतालों एवं स्कूलों की संख्या का 250... आगे पढ़े

कंपनियों को ट्रस्टीशिप के रूप में कार्य करना चाहिए, तभी हो सकेगा समावेशी विकास

Updated on 1 October, 2021, 22:08
           विलासतापूर्ण दिखावे के युग में पूंजीपतियों में विलासिता के प्रदर्शन की होड़ लगी है। ऐसी स्थिति में आज देश के लगभग 5 प्रतिशत उद्योगपति स्वेच्छा से ट्रस्टीशिप सिद्धान्त का व्यवहार में प्रयोग समाज सेवा हेतु सफलतापूर्वक प्रयोग कर रहे हैं, तो यह सिद्धान्त को व्यवहारिक... आगे पढ़े

बिना किसी हिंसा के कोई भी लड़ाई लड़ी जा सकती है

Updated on 1 October, 2021, 19:49
भारत में 2 अक्टूबर को हर साल उस महात्मा के नाम समर्पित किया जाता है जिन्होंने देश को हमेशा अहिंसा के रास्ते पर चलने की शिक्षा दी है। 2 अक्टूबर 1869 राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का पोरबंदर गुजरात में जन्म हुआ था। गांधी जी के पिता का नाम करमचंद गांधी था... आगे पढ़े

भारत में सामुदायिक व्यापार की आवश्यकता क्यों  ?

Updated on 1 October, 2021, 4:17
 योगेन्द्र पटेल           स्थानीय समुदाय के माध्यम से किया जाने वाला आर्थिक गतिविधि से जुड़ा कार्य व्यवसाय है, लेकिन किसी कंपनी द्वारा आपके इलाके में किया जाने वाला कार्य "पेशा है। वर्तमान समय में व्यवसाय गायब और "पेशा" खूब फल-फूल रहा है। व्यवसाय को समझने के लिए... आगे पढ़े

बालाघाट की चिन्नौर प्रजाति की धान को मिला GI टैग, ग्लोबल मार्केट में होगी ट्रेंडिंग

Updated on 30 September, 2021, 14:19
बालाघाट। जिले की माटी में वारासिवनी तथा लालबर्रा ब्लॉक में चिन्नौर के नाम से कई शताब्दियों से उत्पादित होने वाले धान का उत्पादन लगभग दो दशक से किसानों ने कम फसल होने की वजह से बंद कर दिया था। अब बालाघाट जिले में कृषि महाविद्यालय आने के बाद चिन्नौर चांवल को... आगे पढ़े

धान की फसल में हल्दिया रोग से ऐसे करें बचाव

Updated on 30 September, 2021, 14:11
  धान की फसल में फूल  पकने वाले हैं . खेतों में नमी खूब है। ऐसे में फूलों पर विशेष ध्यान होगा, अन्यथा फसल पर हल्दिया (कंडवा) अर्थात फाल्स स्मट रोग का खतरा है। ऐसे में हल्दिया से बचाव के लिए किसानों को अभी से अपने खेतों में दवा का छिड़काव... आगे पढ़े

21 तरह की सब्जियां, 33 तरह के फूल उगा चुकी हैं यह कंप्यूटर साइंस इंजीनियर

Updated on 27 September, 2021, 22:12
कुछ लोगों के लिए बागवानी सिर्फ कोई शौक या जरूरत नहीं बल्कि उनकी आदत होती है। क्योंकि वे कहीं भी जाये या रहें, यह आदत उनके साथ-साथ चलती है। मूल रूप से जबलपुर से संबंध रखने वाली आभा पांडेय का भी कुछ यही हाल है। बचपन से ही हरियाली और... आगे पढ़े

गौमूत्र, दूध, हल्दी जैसी चीज़ों से बनाया खेती को सफल, विदेशों से भी सीखने आते हैं किसान

Updated on 27 September, 2021, 22:10
आमतौर पर खेती करने के लिए जमीन तैयार करने से लेकर, बीज लगाने और फसल पकने तक किसान कई तरह के केमिकल्स का इस्तेमाल करते हैं। ताकि उत्पादकता ज्यादा और मुनाफ़ा अच्छा हो। हालांकि हाल के दिनों में जैविक खेती के प्रति कई किसानों का रुझान बढ़ने लगा है। जिससे... आगे पढ़े

100 तरह के अचार बनाकर देशभर में हुईं मशहूर, होम शेफ बन गयीं सफल बिज़नेस वुमन

Updated on 27 September, 2021, 22:08
आम, नींबू, गोभी, गाजर के अचार तो लगभग सभी ने खाये होंगे। लेकिन क्या आपने कभी चिकन, मटन, प्रॉन का अचार खाया है? जी हां, आपने बिल्कुल सही पढ़ा। नॉन-वेज खाने वालों के लिए भी शायद यह नयी बात हो तो वेज वालों को तो भूल ही जाइए। अब सवाल... आगे पढ़े

रु. 300 की कबाड़ साइकिल को बदला सोलर साइकिल में

Updated on 26 September, 2021, 9:54
होनहार बिरवान के होत चिकने पात-  यह वाक्य शायद वड़ोदरा के नील शाह जैसे बच्चों के लिए ही कहा गया होगा। फिशरीज डिपार्टमेंट से रिटायर्ड नील के पिता प्रद्युम्न शाह भले ही मात्र सातवीं तक पढ़ें हों, लेकिन आज अपने बेटे को पढ़ाने के लिए हर मुमकिन प्रयास कर रहे... आगे पढ़े

बांस उत्पादों के साथ आदिवासी महिलाओं को सशक्त बना रहीं फाल्गुनी

Updated on 26 September, 2021, 9:35
फाल्गुनी जोशी इस बात को लेकर काफी परेशान थीं कि ओडिशा के नीलगिरी के आदिवासी समुदाय के लिए आजीविका का एकमात्र साधन खदानों में काम करना था, जो उनके स्वास्थ्य और कल्याण के लिए हानिकारक था।  आय का एक वैकल्पिक स्रोत बनाने के लिए, उन्होंने आदिवासी महिलाओं को बांस की बुनाई... आगे पढ़े

सरकार 98,000 कृषि सहकारिताओं को डिजिटल बनाएगी: सचिव

Updated on 26 September, 2021, 9:31
सरकार डिजिटल ऋण के लिए 98,000 प्राथमिक कृषि सहकारिताओं (PCA) के डिजिटलीकरण और आधुनिकीकरण पर ध्यान केंद्रित कर रही है। सहकारिता मंत्रालय में सचिव देवेंद्र कुमार सिंह ने पहले ‘सहकारिता सम्मेलन’ या राष्ट्रीय सहकारिता सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह बात कही। आम बजट-2021 में सरकार ने सहकारिता मंत्रालय के गठन... आगे पढ़े

पहले पराली में उगाई मशरूम, फिर इसके वेस्ट से बनाये इको फ्रेंडली बर्तन

Updated on 24 September, 2021, 22:12
“किसी भी क्षेत्र में शोधकर्ता, सालों तक शोध करते हैं। लेकिन उनके शोध का प्रभाव आम आदमी तक पहुंचने में लंबा वक्त लग जाता है। मैंने भी बायोटेक्नोलॉजी में एमएससी और पीएचडी की। पढ़ाई के बाद अलग-अलग संस्थानों जैसे भोपाल में नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ हाई सिक्योरिटी एनिमल डिजीज और नेशनल इंस्टिट्यूट... आगे पढ़े

अनोखी मशीन, अब बिना हाथ गंदे किए गोबर को इकट्ठा कर सकते हैं

Updated on 13 September, 2021, 23:11
            यह सच है कि किसान अगर चाहे तो गोबर से भी अच्छी कमाई कर सकता है। लेकिन समस्या यह है कि गोबर को उठाने और इससे कोई काम करने में लोगों को बहुत हिचक महसूस होती है। वैसे यह भी सच है कि कोई... आगे पढ़े

52 की उम्र में सीखी नयी तकनीक, चीया सीड्स उगाकर कमा रहीं तीन गुना मुनाफा

Updated on 13 September, 2021, 23:07
कर्नाटक के एचडी कोटे तालुका की आदिवासी महिला, प्रेमा की कहानी काफी दिलचस्प है। वह हमेशा से अपनी आजीविका के लिए जंगलों पर ही निर्भर थीं। लेकिन जब साल 2007 में राज्य सरकार ने उन्हें नागरहोल जंगल से सोलेपुरा रिज़र्व फॉरेस्ट में बसाया, तब उनके लिए काफी कुछ बदल गया। साल 2007 में... आगे पढ़े

मुनाफे के वो बिज़नेस, जिन्हें आप शुरू कर सकते हैं मात्र 10 हज़ार रुपये में

Updated on 13 September, 2021, 22:51
बिजनेस एक ऐसा पेशा है जिसका क्रेज लोगों के बीच हर जमाने में बना रहा है। बीते कुछ सालों से भारत में भी युवाओं के बीच नौकरी को छोड़कर स्टार्ट अप या अपना खुद का बिजनेस शुरू करने की प्रवृत्ति काफी देखी गई है। आखिर हो भी क्यों न, दूसरों... आगे पढ़े

MP में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में भ्रष्टाचार

Updated on 13 September, 2021, 22:15
भोपाल  । प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में भ्रष्टाचार के मामले में उमरिया जिले के उद्यानिकी विभाग के कई अधिकारी और कर्मचारी शक के घेरे में हैं। 29 किसानों के नाम पर किए गए भ्रष्टाचार में सब्सिडी देने के लिए एक ही किसान के नाम पर तीन महीने बाद नया प्रकरण बना... आगे पढ़े

बिचौलियों के मुक्ति केंद्र बनेंगे गांववाला ई -संवाद पॉइंट                    

Updated on 10 September, 2021, 22:22
भारत का किसान बिचौलियों की जकड में है और कारीगर मार्केटिंग के आभाव में ख़त्म होने की कगार पर, ऐसे में गांववाला के ई -संवाद केंद्र में तैनात होने जा रहे ई -सोशल रिपोर्टर बड़े बदलाव के संकेत दे रहे है ! इस तकनिकी प्रयोग के लिए जो ग्रामोजन फाउंडेशन... आगे पढ़े

सनातन धर्म और नदियां

Updated on 10 September, 2021, 22:19
नागरश्री महाराज कल- कल ये शव्द जब कान में पड़ता है,तो याद आती है तरंगनी,,, मुग्ध करती ये ध्वनि,,निरन्तर गतिशीलता का भान कराती जीवन की अबाध ,अगाध,ओर संघर्ष की जयकार करते शब्द ही तो पयस्वनी की संज्ञा दे जाते। अमृतत्व का कोई वरदान है तो वह जल है। जल का स्रोत है... आगे पढ़े

पूरब में खजराना तो पश्चिम में विराजे बड़ा गणपति

Updated on 9 September, 2021, 22:52
इंदौर Ganesh Chaturthi 2021। शहर के तीन गणेश मंदिर अपने इतिहास, मान्यता और मंगलमूर्ति के स्वरूप के चलते भक्तों के बीच आकर्षण का केंद्र है। शहर का सबसे पुराने गणेश मंदिर में लोग सालों तक फोन पर अपनी समस्या बताते रहे लेकिन जब मोबाइल की रिंगटोन मंदिर के घंटियों से... आगे पढ़े

राष्ट्र निर्माण में गाॅववाला ई-संवाद केन्द्रों की भूमिका एवं परिकल्पना

Updated on 9 September, 2021, 21:51
              युवा राष्ट्र के किसी भी विकास की नींव रख सकता है। युवा एक व्यक्ति के जीवन में वह मंच है,जो सीखने की कई क्षमताओं और प्रदर्शन के साथ भरा हुआ है। एक युवा मन प्रतिभा और रचनात्मकता से भरा हुआ है। यदि वे... आगे पढ़े